वाहन चालकों के लिए काम की खबर, सफर से पहले पढ़ ले ये नए नियम…

वाहन चालकों के लिए काम की खबर है। अगर आप  काठगोदाम से नैनीताल या अल्मोड़ा का सफर कर रहें है या करने की सोच रहें है तो ये खबर जरूर पढ़ लें क्योंकि परिवहन विभाग ने बड़ें फैसले लिए है। अगर आप को इन सड़क पर वाहन चलाने के नए नियम नहीं पता होंगो तो आपको भारी पड़ सकता है। जी हां बताया जा रहा है कि परिवहन विभाग ने नैनीताल और चंपावत जिले के पर्वतीय रास्तों के लिए गति सीमा तय कर दी है। अगर कोई ये नियम का पालन नहीं करेगा तो उसका चालान कटेगा। इसकी मॉनीटरिंग के लिए विभाग द्वारा अब जल्द ही प्रमुख मार्गों पर स्पीड गन कैमरे लगाए जाने की भी खबर है।

मिली जानकारी के अनुसार परिवहन विभाग हल्द्वानी संभाग ने बड़ी बैठक की थी। बताया जा रहा है कि  इस बैठक में कई मार्गों के लिए वाहनों की अब गतिसीमा का निर्धारण किया गया है। नैनीताल और चंपावत के पर्वतीय मार्गों के लिए भी स्पीड तय की गई है। जिनकी मॉनीटरिंग के लिए टीमें तैनात की जाएंगी, साथ ही स्पीड गन कैमरों को भी इन मार्गों में लगाने की योजना है। इसमें अल्मोड़ा-हल्द्वानी राष्ट्रीय राजमार्ग सहित नैनीताल, चंपावत, लोहाघाट, रामनगर से पर्वतीय क्षेत्रों को जाने वाली प्रमुख सड़कें भी शामिल हैं। यहां  दोपहिया और टैक्सी वाहनों के लिए 35 किमी प्रति घंटे की अधिकतम गति और मालवाहक और भारी वाहनों के लिए 30 की रफ्तार तय की गई है।

बताया जा रहा है कि विभाग से राष्ट्रीय राजमार्ग खंड, लोनिवि सहित अन्य विभागों ने सड़कों पर गति सीमा संबंधी जानकारी मांगी गई थी। जिसके आधार पर ये फैसला लिया गया है कि पहाड़ी मार्ग पर दोपहिया वाहनों के लिए भी अधिकतम स्पीड 35 किमी प्रति घंटा तय की गई है। नैनीताल जिले में सात सीटर वाहनों के लिए 35 किमी तो 10 सीटर वाहनों के लिए 30 किमी प्रति घंटे की रफ्तार तय की गई है।वहीं चंपावत जिले में दोपहिया व कार की रफ्तार 30, बस और ट्रक की रफ्तार 25 किलोमीटर तय की गई है।

वहीं काठगोदाम-नैनीताल, ज्योलीकोट-क्वारब, रामनगर-बुआखाल, कालाढूंगी-नैनीताल, कोटाबाग-कालाढूंगी, गर्जिया-बेतालघाट-खैरना-मुक्तेश्वर, रामनगर-भंडारपानी-बेतालघाट-भुजान-रीची बिल्लेख, रामनगर-लालढांग क्षेत्रों में दोपहिया व सात सीटर की रफ्तार 35, दस सीटर और मालवाहक की रफ्तार 30 किलोमीटर तय की गई है। जबकि  चंपावत जिले में दोपहिया व कार की रफ्तार 30, बस और ट्रक की रफ्तार 25 किलोमीटर तय की गई है। इसमें लोहाघाट-पंचेश्वर, लोहाघाट-मरोड़ाखान,  लोहाघाट-देवीधुरा, चंपावत-मंच-पाटी, घाट -पनार-दन्या, घुनाघाट-रीठासाहिब-पतलोड़, चंपावत-ललुवापानी-खेतीखान, पाटनपुल-बाराकोट शामिल है।