कांग्रेस की नव नियुक्त प्रदेश प्रभारी कुमारी शैलजा पहुंची दून, कही ये बात…

उत्तराखंड में लोकसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियां कमर कस चुकी है। बताया जा रहा है कि कांग्रेस की नव नियुक्त प्रदेश प्रभारी कुमारी शैलजा आज देहरादून पहुंची। यहां उन्होंने जहां बड़ी बैठके कर कार्यकर्ताओं को अहम निर्दश दिए तो वहीं अब खबर है कि जल्द ही कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे भी दून आने वाले है। वह यहां जनसभा भी कर सकते है। साथ ही पार्टी पदाधिकारी व विधायकों के साथ राष्ट्रीय अध्यक्ष के प्रस्तावित दौरे को लेकर चर्चा की।आइए जानते है डिटेल्स

मिली जानकारी के अनुसार कांग्रेस की उत्तराखंड प्रभारी शैलजा कुमारी आज सोमवार को पहली बार देहरादून पहुंचीं। यहां जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर पार्टी कार्यकर्ताओं ने जहां उनका जोरदार स्वागत किया। तो वहीं मीडिया से बातचीत करते हुए ने कहा कि उत्तराखंड की सभी चुनौतियों का सामना करेंगे। सभी कार्यकर्ताओं को साथ लेकर पार्टी को मजबूत बनाने का कार्य किया जाएगा। देश को कैसे बीजेपी बांटने का कार्य कर रही है, उस चुनौती का सामना भी करना है। राहुल गांधी जी के संदेश को जन जन तक पहुंचाना है। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे 28 जनवरी को उत्तराखंड पहुंचेंगे। राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद मल्लिकार्जुन पहली बार उत्तराखंड आ रहे हैं। देहरादून में उनकी जनसभा प्रस्तावित है।

इसके बाद जौलीग्रांट एयरपोर्ट से कुमारी शैलजा काफिले के साथ कांग्रेस प्रदेश मुख्यालय पहुंचीं। कांग्रेस मुख्यालय पहुंचने के बाद शैलजा कुमारी ने प्रदेश पदाधिकारियों के साथ बैठक शुरू की। प्रदेश मुख्यालय पहुंची शैलजा कुमारी ने कहा कि सभी चुनाव की चुनौती होती है। लेकिन देश में इस वक्त जो बांटने की राजनीति चल रही है, उसको देखते हुए देश को जोड़ने के लिए पहले भी राहुल गांधी ने यात्रा की थी। अब एक बार फिर मणिपुर से यात्रा शुरू की है। देश को जोड़ने का संदेश उत्तराखंड में भी पहुंचाएंगे। साथ ही कहा की भाजपा की नीतियों की वजह से जो महंगाई और बेरोजगारी बढ़ी है, उसके खिलाफ कांग्रेस मुखर होगी। साथ ही लोकसभा का चुनाव आ रहा है।उसमें भी तमाम तरह के मुद्दे उठाने हैं उसकी तैयारी शुरू कर दी है।

कुमारी शैलजा ने कहा कि आने वाले समय में प्रदेश के पदाधिकारियों और नेताओं से विचार विमर्श किया जाएगा, ताकि प्रदेश की पांचों लोकसभा सीटों पर बेहतर उम्मीदवार उतार कर पांचों सीटों को जीत सकें। साथ ही कहा कि देश की संपत्ति केवल चंद हाथों में जा रही है जबकि कांग्रेस का मानना है कि देश की प्रगति और विकास में सभी का हिस्सा होना चाहिए. जो छोटे उद्योग हैं, उनका काम वर्तमान समय में खत्म हो रहा है। यानी कुल मिलाकर मिडिल क्लास फैमिली को खत्म किया जा रहा है। ऐसे में यह जरूरी है कि चंद हाथों में देश की संपत्ति नहीं जानी चाहिए। हालांकि, कांग्रेस किसी उद्योग के खिलाफ नहीं है लेकिन कुछ हाथों में सब कुछ जाने के खिलाफ जरूर है।