उत्त्तरकाशी : अब बदलेगी यमनोत्री धाम की तस्वीर

  • यमुनोत्री

आगामी चारधाम यात्रा सुगम,सुव्यवस्थित व सुरक्षित सम्पन हो इस हेतु जिला प्रशासन तैयारी में जुट गया है। विश्व प्रसिद्ध यमुनोत्री धाम मंदिर के सौंदर्यीकरण, स्नान घाटों के पुनर्निर्माण कार्य के साथ ही विभिन्न योजनाओं का शिलान्यास किया गया।

शनिवार को जानकीचट्टी में आयोजित कार्यक्रम में यमुनोत्री विधायक केदार सिंह रावत एवं जिलाधिकारी डॉ आशीष चौहान ने 3 करोड़ 48 लाख 46 हजार की लागत से विभिन्न योजनाओं का विधि विधान के साथ शिलान्यास किया गया।जानकीचट्टी में गेल-यमुना पार्क(स्मृति वन)लागत 35 लाख, स्वागत द्वार 35 लाख तथा यमुनोत्री मंदिर का सौंदर्यीकरण 1 करोड़, यमुनोत्री धाम में लोक सूचना तंत्र एवं एलईडी डिस्प्ले लागत 20 लाख,यमुनोत्री में कचरा प्रबंधन हेतु 25 लाख 96 हजार,यमुनोत्री में स्नान घाटों का पुनर्निर्माण 82 लाख 50 हजार,यमुनोत्री में तप्त कुंड का पुनर्निर्माण लागत 50 लाख का शिलान्यास किया गया।

विधायक केदार सिंह रावत ने कहा कि यमुनोत्री धाम की यात्रा को हर सम्भव सुगम बनाया जाएगा। इसके लिए गेल इंडिया के सहयोग से धाम व मुख्य पड़ावों पर विभिन निर्माण कार्य करवाये जाएंगे।उन्होंने कहा कि आज यमुनोत्री मन्दिर सौंदर्यीकरण, तप्त कुण्ड पुनर्निर्माण, स्वागत द्वार निर्माण, कचरा प्रबंधन, सूचना तंत्र डिस्प्ले सेंटर सहित विभिन्न कार्यों का शुभारंभ भी इसी के तहत किया गया है।विधायक ने कहा कि यमुनोत्री लाखों लोगों की आस्था का धाम है।जिसके विकास लिए सरकार भी कटिवद्ध है।

जिलाधिकारी डॉ आशीष चौहान ने कहा कि यात्रा सीजन से पूर्व यमुनोत्री धाम के लिए सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त कर ली जाएंगी। उन्होंने कहा कि यात्रियों को सुगम,सुरक्षित व सुव्यवस्थित यात्रा कराना प्रशासन की सर्वोच्च प्राथमिकता है। ताकि यमुनोत्री धाम आने वाले देशी-विदेशी यात्री सुगमता के साथ मां यमुना के दर्शन कर सकें। उन्होंने कहा कि गत वर्ष की भांति इस वर्ष भी यमुनोत्री धाम परिसर,पैदल रुट व जानकीचट्टी में विशेष स्वच्छता अभियान चलाया जायेगा।इस हेतु स्वच्छ आईकॉनिक प्लेस के अंतर्गत यमुनोत्री धाम की सफाई व्यवस्था हेतु 25 लाख 96 हजार की धनराशि प्राप्त हो चुकी है। जिलाधिकारी ने कहा कि यात्रा सीजन के दौरान पैदल मार्ग पर किसी भी यात्री की हार्ट अटैक से मौत ना हो इस हेतु यात्रा रूट पर कार्डिक सेंटर, कार्डिक एंबुलेंस, तथा हार्ट केयर सेंटर परस्पर काम करता रहेगा। पिछले वर्षों की तुलना में गत वर्ष में हार्ड अटैक से मरने वाले यात्रियों की संख्या में काफी कमी आई है। यात्रा सीजन में यात्रियों को यातायात संबंधी कोई परेशानी न हो इस हेतु संक्रिण सड़क मार्ग को शीघ्र चौड़ीकरण कर लिया जाएगा तथा जहां आल वेदर सड़क के अंतर्गत सड़क चौड़ीकरण का कार्य पूर्ण हो गया है वहां शीघ्र डामरीकरण का कार्य प्रारंभ कर दिया जाएगा।

जिलाधिकारी ने चारधाम यात्रा से जुड़े समस्त अधिकारियों व कार्यदाई संस्थाओं को यात्रा सीजन से पूर्व सभी आवश्यक व्यवस्थाएं चाक-चौबंद करने के निर्देश दिए हैं।

इस अवसर उपजिलाधिकारी बड़कोट सोहन सैनी,अधिशासी अभियंता लोनिवि सुनील गर्ग,तहसीलदार, मोहन सिंह राणा, अधिशासी अभियंता सिचाई हिमांशु घिल्डियाल,सहायक अभियंता पूरन सिंह रावत,आलोक रावत, प्रधान नितिन रावत,यशपाल राणा,जल संस्थान के देवराज तोमर,गजेंद्र रावत,रेंज अधिकारी मुन्ना चौहान, राजस्व उपनिरीक्षक वेद प्रकाश नौटियाल, विधुत विभाग के सुनील उनियाल,राकेश रावत, मनबीर रावत, रणवीर राणा, प्रताप तोमर,मनमोहन चौहान,मीरा रावत, महावीर पँवार सहित कई लोग मौजूद रहे।

सुरेश कुमार – संरक्षक सूचना