कुंवर जपेंद्र ने उठाई 300 से अधिक योजनाओं के फर्जी भुगतान की सीबीआई जांच की मांग।

  • उत्तरकाशी

 

भाजपा के वरिष्ठ नेता व वर्ल्ड ह्यूमन राइट प्रोटेक्शन कौंसिल के महासचिव कुंवर जपेंद्र सिंह का उत्तरकाशी पहुँचने पर ज़ोरदार स्वागत हुआ। कुंवर जपेंद्र ने जिला पंचायत उत्तरकाशी में हुए करोड़ों के भ्रष्टाचार को लेकर हाई कोर्ट में पीआईएल दर्ज कर कहा कि मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम “ना खाऊंगा न खाने दूंगा” का कायल हूँ व उसी के आधार पर सामाजिक स्तर में फैले भ्रष्टाचार के विरुद्ध बर्षों से लामबंद होकर कार्य कर रहा हूँ।

भाजपा नेता कुंवर जपेंद्र ने मीडिया से रूबरू होते हुए कहा कि जब जिला पंचायत उत्तरकाशी में हुए भारी भ्रष्टाचार की जानकारी यहाँ के जनप्रतिनिधियों के माध्यम से हमें प्राप्त हुई और मैंने तमाम कागजात का अध्ययन किया तो मुझे लगा कि यह तो सीधे-सीधे आम जन के अधिकारों पर खुलेआम डाका है इसलिए मुझे कोर्ट में पीआईएल दर्ज करवाते देर नहीं लगी। हाई कोर्ट ने सम्पूर्ण प्रकरण का बेहद गम्भीरता से संज्ञान लेते हुए 300 फर्जी योजनाओं के करोड़ों भुगतान पर जांच के आदेश जारी किए हैं।

कुंवर जपेंद्र ने कहा कि उन्हें देश की कानून व्यवस्था व माननीय न्यायालय पर पूरा भरोसा है कि वह जांच के बाद करोड़ों के ऐसे घोटालेबाजों को जेल की सलाखों के पीछे डालेंगे व जनता के पैंसे की रिकवरी करवाकर आमजन के विकास कार्यों में खर्च करवाएंगे।

उन्होंने कहा कि अगर तब भी कहीं किसी प्रपंच से ऐसे भ्रष्टाचारी बच जाते हैं, तब सुप्रीम कोर्ट तक ऐसे मामले को ले जाऊंगा। उन्होंने पुनः दोहराया कि वे प्रधानमंत्री मोदी की भ्रष्टाचार के विरुद्ध मुहिम “ना खाऊंगा, न खाने दूंगा” के अनुयायी हैं व प्रदेश में भ्रष्टाचार के विरुद्ध बर्षों से लड़ रहे हैं। ऐसे में वह उत्तराखंड सरकार व माननीय मुख्यमंत्री धामी को पत्र लिखकर इस मामले की सीबीआई जांच की मांग करेंगे।

ज्ञात हो कि कुंवर जपेंद्र ने इससे पूर्व उत्तराखंड के निजी विद्यालयों में अरबों की फीस लूट का खुलासा कर 25 लाख परिवारों के लिए मुहिम चलाई थी व इसे वे पहले हाई कोर्ट व बाद में सुप्रीम कोर्ट में ले गए व केस जीते। तत्पश्चात उन्होंने छात्रवृत्ति घोटाले पर कईयों को जेल के सलाखों के पीछे भेजा। एन एच घोटाले का भी कुंवर जपेंद्र पर्दाफाश कर चुके हैं।

उन्होंने कहा कि अगर जिला पंचायत उत्तरकाशी के करोड़ों के घोटाले पर जल्दी ही कोई ठोस कार्यवाही सामने नहीं आई या फिर भ्रष्टाचारियों से वसूली कर उन्हें जेल की सलाखों के पीछे नहीं भेजा तो यह तय है कि वे जिला उत्तरकाशी के सम्भ्रांत जनप्रतिनिधियों के साथ इस मुहिम को और तेजी देंगे और तब तक इसे छोड़ेंगे नहीं जब तक यह मुहिम पूरी नहीं होती।

इस दौरान आनंद सिंह राणा जिला पंचायत सदस्य डख्याट गांव , चंदन सिंह जिला पंचायत सदस्य ग्राम सभा नाल्ड, पवन पंवार जिला पंचायत सदस्य पौंटी, दलवीर चंद जिला पंचायत सदस्य भंकोली, श्रीमती सरिता चौहान जिला पंचायत सदस्य गजौली बाड़ाहाट, श्रीमती कविता परमार उपाध्यक्ष जिला पंचायत उत्तरकाशी इत्यादि जनप्रतिनिधि उपस्थित रहे।