HAPPY BIRTHDAY उत्त्तरकाशी : 61 वर्ष का हुआ उत्त्तरकाशी…. क्या है ख़ास पढ़े..

  • उत्त्तरकाशी

अंतर्राष्ट्रीय सीमा चीन से लगा उत्तरकाशी जनपद  आज को 61 वर्ष का हो जाएगा।

अविभाजित उत्तरप्रदेश में 24 फरवरी 1960 को टिहरी गढ़वाल जनपद की रंवाई तहसील को अलग कर उत्तरकाशी जनपद का गठन किया गया था। पांच दशकों में जिले की प्रशासनिक इकाईयां बढ़ने के साथ इसकी आबादी ढाई गुना से अधिक
बढ़ी है।

गंगा व यमुना नदियों के उद्गम के लिए प्रसिद्ध उत्तरकाशी मध्य हिमालय क्षेत्र में बसा सबसे खूबसूरत जिला है। जो पर्यटन व तीर्थाटन के लिए देश-विदेश में एक अलग पहचान रखता है। वर्ष 1960 में चार तहसीलों पुरोला, राजगढ़ी, डुंडा व भटवाड़ी के साथ इसकी स्थापना हुई थी। बाद में राजगढ़ी की जगह बड़कोट तथा पुरोला से मोरी और डुंडा को विभा‌जित कर चिन्यालीसौड़ सहित कुल छह तहसीलें गठित की गई।

वर्ष 1961 की जनगणना में जिले की कुल जनसंख्या 1 लाख 22 हजार 836 थी। जो वर्ष 2011 में बढ़कर 3 लाख 30 हजार 86 हो गई। जिले की साक्षरता दर 15.6 से बढ़कर 75.81 प्रतिशत पहुंची। जनघनत्व भी 15 व्यक्ति से बढ़कर 41 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी पहुंच चुका है। हालांकि लिंगानुपात में थोड़ी कमी हुई है। वर्ष 1961 में लिंगानुपात जहां प्रति हजार पुरुषों पर 964 महिला था। वहीं अब यह 958 है।

जिले में अब तक 51 डीएम और 27 एसपी रह चुके हैं। वर्तमान में 52वें डीएम
के रूप में मयूर दीक्षित कार्यरत हैं। वहीं मणिकांत मिश्रा उत्तरकाशी के
28वें पुलिस अधीक्षक के रूप में कार्यरत हैं।