कृषि विज्ञान केंद्र रानीचौरी में हिमाद संस्था द्वारा आयोजित किया गया प्रशिक्षण कार्यक्रम

  • रानीचौरी, रिपोर्ट – प्रवेश नौटियाल

शुक्रवार को वी.च.सिं.ग.उ.औ.एवं.वानिकी विश्वविद्यालय के कृषि विज्ञान केन्द्र, रानीचैरी में हिमाद संस्था गोपेश्वर, चमोली द्वारा प्रायोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

केन्द्र के प्रभारी डा0 आलोक येवले द्वारा किसानों को खाद्यान्न फसलों की जैविक पद्धति व चारा उत्पादन तथा औषधीय पौधों की वैज्ञानिक उत्पादन तकनीकी के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी दी गयी। ई0 कीर्ति कुमारी, वैज्ञानिक, खाद्य प्रसंस्करण द्वारा शीतोष्ण फलों का तुड़ाई उपरान्त प्रसंस्करण एवं विपणन व खाद्य सुरक्षा हेतु मोटे अनाजों का मूल्य वृद्धिकरण आदि के बारे में विस्तृत रूप से चर्चा की गयी। मृदा वैज्ञानिक, डा0 शिखा ने मृदा स्वास्थ्य कार्ड की आवश्यकता, मूल्य वर्धित खाद तथा वर्मीकम्पोस्ट बनाने व रबी फसलों में एकीकृत्र पोषक तत्व प्रबन्धन आदि की विस्तार से जानकारी दी साथ ही किसानों को प्रक्षेत्र भ्रमण करा कर जलवायु सहिष्णु कृषि तकनीकों एवं पद्धतियों का अवलोकन कराया विभिन्न फसलोत्पादन की वैज्ञानिक पद्धति के बारे में अवगत कराया। श्री नवीन तडियाल, शोध अध्येता ने वर्षा जल संरक्षण एवं एच.डी.पी.ई. जल संचय टैंक के प्रयोग एवं उपयोग बारे में जानकारी दी। उक्त कार्यक्रम में बद्रप्रसाद, नवीन विष्ट, आशा देवी, विमला देवी, अनिता देवी, आदि मौजूद थे।