उत्तराखंड में स्वास्थ्य मंत्री धन सिंह रावत ने इस योजना को लेकर किया बड़ा ऐलान, मिलेगा लाभ

देहरादून: उत्तराखंड में स्वास्थ्य मंत्री धन सिंह रावत ने शनिवार को आयुष्मान योजना को लेकर बड़ा ऐलान किया है। अब प्रदेश के अंदर हर वर्ग और सभी के आयुष्मान कार्ड बनाए जाएंगे। वो भी नए नियमों के तहत। इतना ही प्रदेश भर में स्वास्थ्य मेले का आयोजन भी किया जाएगा। बता दें कि स्वास्थ्य मंत्री ने आयुष्मान योजना की चौथी वर्षगांठ पर प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश के अंदर हर जनमानस आज आयुष्मान कार्ड का लाभ ले रहा है । लेकिन , जहां पर आयुष्मान कार्ड नहीं बन रहे हैं , वहां अब और तेजी से आयुष्मान कार्ड बनाने का काम शुरू किया जा रहा है ।

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार धन सिंह रावत ने प्रदेश भर में स्वास्थ्य मेले के आयोजन को लेकर कहा कि राज्य के सभी 91 विकास खंडों पर एक दिवसीय स्वास्थ्य मेले का आयोजन किया जा रहा है। यह मेला आयोजन 18 से 22 अप्रैल में होगा। उन्होंने बताया कि अतिरिक्त राज्य के साथ नगर निगम और 11 नगर पालिका परिसर में भी एक दिवसीय स्वास्थ्य मेले का आयोजन किया जाएगा , जिसमें प्रदेश के सभी आमजन नागरिक अपने स्वास्थ्य का चेकअप और जानकारिया ले सकते हैं। आम जनता के फायदे को देखते हुए आयुष्मान कार्ड बनाने का कार्यक्रम भी किया जाएगा । उन्होंने बताया कि आम जनमानस को उनके घर के समीप स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए भारत सरकार के सहयोग से आयुष्मान भारत हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर के नाम से एक महत्वपूर्ण योजना का संचालित की जा रही है ।

आयुष्मान योजना की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि उत्तराखंड राज्य में 1464 हेल्थ एड वेलनेस सेंटर संचालित हो रहे हैं जिसमें से 1031 उप केंद्र 33 शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र एवं 395 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्री पर डेल्थ एंड वेलनेस सेंटर संचालित किए जा रहे है । पर्वतीय क्षेत्रों में मरीजों के सामने आ रही रेफर करने की बड़ी समस्या को लेकर उन्होंने कहा कि अब हम जिला अस्पतालो हर तरह की मशीनों को उपलब्ध कराने का पूरा काम युद्ध स्तर पर कर रहे हैं। बहुत जल्द आने वाले 4 महीनों में हर आम नागरिकों स्वास्थ्य सेवाएं अस्पतालों में मिलनी शुरू हो जाएगी | जिससे उनकी देहरादून तक का सफर तय नहीं करना पड़ेगा । वहीं उन्होंने कहा कि प्रदेश में पहले आयुष्मान कार्ड बनाने को लेकर कुछ नियम और शर्ते रखी गई थी । लेकिन , इस बार हमने केंद्र सरकार के सामने आयुष्मान योजना की विभिन्न पहलुओं को रखा था , जिसको लेकर केंद्र सरकार ने हमारी बातों को मानते हुए उस पर अपनी मुहर लगा दी थी।