जनता की समस्याओं को धैर्यपूर्वक सुने और जनसमस्याओं का निस्तारण तेजी से करें : CM

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि जनता की समस्याओं को धैर्यपूर्वक सुने और जनसमस्याओं का निस्तारण तेजी से करें। उन्होंने कहा कि इस बात का विशेष ध्यान रहे कि बिजली व पानी की दिक्कतें न होने पायें। उन्होंने कहा कि शहरी व ग्रामीण हर क्षेत्र में जहां तक बिजली व पेयजल की पहुंच है वहां बिजली व पेयजल की आपूर्ति सुचारु रुप से की जाय। उन्होंने कहा कि डायरिया का सीजन चल रहा है इसलिए स्वास्थ्य महकमा चैकन्ना रहकर कार्य करें। गरीब वर्ग को स्वास्थ्य सेवाओं का समुचित लाभ दिया जाय। मुख्यमंत्री श्री रावत ने यह निर्देश कलक्ट्रेट सभागार में आयोजित समीक्षा बैठक में दिये।
मुख्यमंत्री ने विद्युत विभाग के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि जिन क्षेत्रों में विद्युत कटौती व शटडाउन किया जाता है इसकी सूचना सोशल मीडिया व प्रिन्ट मीडिया के माध्यम से स्थानीय जनता को अवश्य दे दी जाय। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि जनपद के किसानों को सिचांई हेतु पर्याप्त जल की आपूर्ति की जाय। उन्होंने उद्यान व कृषि विभाग के अधिकारियों को किसानों को पौध रोपण सहित पौधों की किस्मों व फल देने की अवधि आदि की सम्पूर्ण जानकारी उपलब्ध कराने के निर्देश दिये ताकि किसान फलोत्पादन का समुचित लाभ लें सकें। उन्होंने कहा उद्यान के क्षेत्र में टिश्यू कल्चर को अधिक महत्व दिया जाय। मुख्यमंत्री श्री रावत ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि जनपद में मजदूर व गरीब वर्ग डायरिया से अधिक प्रभावित रहता है इसलिए मजदूर व गरीब वर्ग तक स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ अवश्य पहुचंना चाहिए। श्री रावत ने राजस्व विभाग को वर्ग चार व वर्ग 01(ख) सम्बन्धी भूमि मामलों के निस्तारण में तेजी लाने के निर्देश दिये। उन्होंने लम्बित वादों का निस्तारण शीघ्र किये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जनपद में जल संरक्षण व संवर्धन के लिए मनरेगा से अधिक से अधिक प्रस्ताव बनाये जायें। उन्होंने कहा कि गन्ना किसानों का 44 करोड रुपये का बकाया भुगतान शीघ्र करवाया जायेगा। श्री रावत ने कहा कि काशीपुर बाईपास, गाबाचैक बाईपास व किच्छा में आदित्य चैक से डीडी चैक तक विस्तारीकरण कार्य हेतु प्रस्ताव बनाकर शासन को उपलब्ध करायें ताकि इस हेतु धनराशि उपलब्ध करायी जा सके। बैठक में जिलाधिकारी डाॅ0 नीरज खैरवाल द्वारा पावर प्रजेन्टेशन के माध्यम से जनपद में किये जा रहे कार्याें की जानकारी दी गयी। जिलाधिकारी ने कार्यालयों में बायोमेट्रिक मशीन व सीसीटीवी कैमरे लगाये जाने, जिला मुख्यालय में स्थापित जन शिकायत निवारण केन्द्र सहित राजकीय कार्याें में उठाये गये सुधारात्मक कदमों की जानकारी दी।
एक अन्य कार्यक्रम में श्री रावत द्वारा शिवनगर से ट्रांजिट कैम्प तक 2.25 किमी सडक बनाने व किच्छा में डिग्री कालेज बनाने की घोषणा की गयी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में चिकित्सा व स्वास्थ्य सेवाओं पर अधिक ध्यान दिया जा रहा है इसके लिए प्रदेश सरकार आर्मी के सेवानिवृत चिकित्सकों को तैनात करने के साथ चिकित्सालयों में चिकित्सकों की कमी को दूर करने के लिए तमिलनाडु, उडीसा व महाराष्ट्र से भी चिकित्सकों का चयन करेगी। उन्होंने कहा तीन माह के भीतर चिकित्सकों की कमी दूर कर ली जायेगी। उन्होंने कहा उत्तराखण्ड के स्थायी निवासियों को राज्य में कार्य करने हेतु 05 करोड रुपये तक के ठेके दिये जायेंगे। उन्होंने कहा कि नगरीय क्षेत्रों के लिए पूर्व में 243 करोड का बजट रखा गया था जिसे बढाकर 587 करोड कर दिया गया है। उन्होंने कहा रुद्रपुर में रिंग रोड बनाने व ट्रचिंग ग्राउण्ड हेतु प्रस्ताव बनाकर शीघ्र उपलब्ध कराये।
इस अवसर पर विधायक राजकुमार ठुकराल व राजेश शुक्ला, पूर्व सांसद बलराज पासी, शिव अरोडा, एसएसपी सदानन्द दांते, सीडीओ आलोक कुमार पाण्डेय सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।