आपदाग्रस्त क्षेत्र धारचूला पहुंचे प्रदेश के पेयजल मंत्री प्रकाश पंत

प्रदेश के पेयजल मंत्री प्रकाश पंत शुक्रवार 18 अगस्त को सड़कमार्ग के माध्यम से आपदाग्रस्त क्षेत्र धारचूला पहुंचे जहाॅ उन्होंने विगत 14 अगस्त को तहसील के मालपा एवं मांगती में आयी आपदा में मृतक एवं लापता व प्रभावित परिवारों से भंेट कर मृतकों के प्रति दुखः एवं अपनी संवेदना व्यक्त की। मा0 मंत्री ने तहसील धारचूला मुख्यालय में प्रशासन द्वारा किये जा रहे आपदा राहत, सर्च एवं रेस्क्यू कार्य के संबंध में अधिकारियों के साथ बैठक कर उन्हें आवश्यक निर्देश दिए। मा0 पेयजल मंत्री ने बैठक में लोक निर्माण विभाग के मुख्य अभियंता सत्येन्द्र शर्मा से क्षेत्र की सड़क एवं पैदल मार्ग की वर्तमान स्थिति के बारे मंे जानकारी ली। उक्त संबंध में उन्होंने अवगत कराया कि नजगगाड़ से मालपा तक लगभग 03 किलोमीटर पैदल  मार्ग पूर्ण रूप से ध्वस्त हो गया है इसके अतिरिक्त मालपा एवं नजगगाड़ में क्षतिग्रस्त पुलों के स्थान पर अस्थाई पुल बनाऐ गये है और क्षेत्र मंे विभाग द्वारा मार्ग की मरम्मत का कार्य किया जा रहा है।
उक्त संबंध में मा0 पेयजल मंत्री ने विभाग को निर्देश दिए कि नजगगाड़ एवं मालपा के बीच क्षतिग्रस्त मार्ग को 07 दिन के भीतर किसी भी स्थिति में खोला जाय। इस हेतु पर्याप्त संख्या में मजदूर आदि लगाये जाय। उन्होंने विभाग को निर्देश दिए कि उक्त मार्ग की पूर्ण मरम्मत होने तक अधीक्षण अभियंता लोनिवि, चम्पावत जो वर्तमान में आपदा क्षेत्र धारचूला मंै तैनात है वह उक्त मार्ग को पूर्ण होने तक मालपा में तथा अधीशासी अभियंता लोनिवि अस्कोट ए0बी0कांडपाल, नजंगगाढ़ में कैंप करंेगे। मा0 मंत्री कहा कि क्षेत्र के मालपा एवं नजंगगाढ़ में स्टील फोल्डिंग ब्रिज 15 दिन में स्थापित कर लिये जाय। मा0 मंत्री ने कहा कि आपदा राहत बचाव एवं पुर्ननिर्माण कार्य में धनराशि की किसी भी प्रकार की कमी नही होने दी जायेगी। राहत बचाव एवं सर्च तथा रेस्क्यू कार्य लगातार जारी रखा जाय। उन्होंने यह भी निर्देश दिए है कि प्रभावित क्षेत्रों में जितने भी स्थानीय लोग फंसे हुये है उन्हें हैलीकाॅप्टर के माध्यम से धारचूला लाया जाय। इसके अतिरिक्त उन्होंने क्षेत्र में खाद्यान्न वितरण करने, मेडिकल कैंप लगाये जाने के साथ ही ग्रामीण सम्पर्क मार्ग व पेयजल लाइनें आदि जो भी क्षतिग्रस्त हुई है उन्हें तत्काल बाहाल करने के निर्देश अधिकारियों को दिये। इस दौरान पेयजल मंत्री ने कहा कि कैलाश मानसरोवर यात्रियों को हैली के माध्यम से लाया एवं ले जाया जायेगा। यात्रा सुचारू रूप से चालू रहेगी। धारचूला में अधिकारियों की बैठक में मुख्य विकास अधिकारी आशीष चैहान, लोनिवि के मुख्य अभियंता सत्येन्द्र शर्मा, उपजिलाधिकारी डीडीहाट विवेक प्रकाश समेत क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि, आपदा प्रभावित आदि उपस्थित थे।