उत्तरकाशी : सरनौल में बहुउद्देशीय शिविर, छाए रहे पेयजल, स्वास्थ्य और सड़क के मुद्दे

  • उत्तरकाशी
जिलाधिकारी डा0 आशीष चौहान के अध्यक्षता में तहसील बड़कोट के सरनौल मां रेणुका मंदिर परिसर मे बहुउद्देशीय शिविर का आयोजन किया गया। आयोजित शिविर में मुख्य अतिथि के रूप में यमुनोत्री विधायक केदार सिह रावत ने प्रतिभाग किया। जबकि जिला पंचायत अध्यक्ष जशोदा राणा, भाजपा अध्यक्ष श्याम डोभाल सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति ने प्रतिभाग किया। शिविर में कुल 55 शिकायत/समस्याए दर्ज हुयी। जिसमें 38 शिकायत एवं समस्याओं का जिला स्तरीय अधिकारियों की मौजूदगी में मौके पर ही निस्तारित की गई तथा शेष प्रकरणों को संबंधित विभागों को अग्रीम कार्यवाही करने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने राजगढी सरनौल मोटर मार्ग को व्यक्तिगत रूप से मोनेट्रिंग कर षीघ्र दुरस्त एवं डामरीकरण करवाने को भरोसा ग्रामीणों को दिया। जिलाधिकारी डा0 आशीष चौहान सरनौल गांव पहुंचने वाले पहले जिलाधिकारी होने पर ग्रामीणों ने जोरदार सम्मान के साथ स्वागत किया।
शिविर में ग्रामीणों की सबसे अधिक शिकायतें पीएमजीएसवाई विभाग को लेकर रही। ग्रामीणों का कहना है कि उन्हें सड़क निर्माण कार्य के लिए अपनी भूमि को दिया लेकिन उसका मुआवजा आज तक नहीं मिला। जिस पर जिलाधिकारी ने पीएमजीएसवाई को सड़क संबंधित प्रतिकर वितरण को लेकर उप जिलाधिकारी बडकोट को जांच कर मांनक के अनुसार वितरण करवाने के निर्देष दिये।
जबकि सड़क की डामरीकरण एवं सुधारीकरण हेतु टेण्डर हुए कार्य में विलम्ब होने पर संबंधित फाईल को कार्यालय में प्रेषित करने के निर्देष दिये। कहा कि लापरवाही करने वाले संबंधित अधिकारी कर्मचारी के विरूद्ध कार्यवाही किया जायेगा। ग्राम प्रधान द्वारा निर्माण कार्य में भुगतान में अनियमितता की षिकायकत पर जिलाधिकारी ने मनरेगा के तहत मजदूरी भुगतान न होने पर कोषाधिकारी, डीपीओ एवं बीडीओ को जांच हेतु नामित किया कहा कि जांच कर 7 दिन के भीतर निस्तारित करें। षिविर में पहुंचे चार दिव्यागंजनों के पेंशन एक वर्ष से न मिलने की शिकायत पर जिलाधिकारी ने सहायक समाज कल्याण अधिकारी एवं ग्राम विकास अधिकारी को संबंधित दिव्यांग के आधार सीडिंग कर रिर्पोट प्रेषित करने के निर्देश दिये। मथा सिह राणा के मकान के रास्ते में ग्राम सभा के निर्माण कार्य पानी आने की षिकायत पर जिलाधिकारी ने पटवारी को 24 घण्टे के भीतर निस्तारण करने तथा विवाद करने वालों के विरूद्ध पीपी एक्ट पर चालान करने के निर्देष दिये।
सरनौल निवासी रमेश ने विद्युत कनेक्सन संयोजन करने की मांग पर जिलाधिकारी ने आयोजित शिविर में विद्युत विभाग की ओर से स्थापित स्टाल पर फार्म भरकर सौभाग्य योजना से विद्युत संयोजन करने के निर्देष दिये। इस दौरान जिलाधिकारी ने ग्रामीणों को सौभाग्य योजना के तहत अपने विद्युत विहीन घरों में विद्युत कनेक्सन संयोजन करने को कहा।  इसी प्रकार दुरस्थ क्षेत्र सरनौल में आयोजित शिविर में पीएमजीएसवाई, राजस्व, सिंचाई, शिक्षा, स्वास्थ्य, पेयजल, समाज कल्याण, पीआरडी, लोनिवि, वन विभाग, से संबंधित रही।
जिलाधिकारी डा0 चौहान ने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि दुरस्थ क्षेत्र सरनौल मे शिविर का सफल सम्पादन हुआ है। ग्रामीणों की अधिकांश समस्याओं का निस्तराण किया गया है। उन्होने  सरनौल के लिए पीएमजीएसवाई के तहत बनीं सड़क को शीघ्र दुरस्त किये जाने का भरोसा ग्रामीणों को दिया।
विधायक रावत ने शिविर को संबोधित करते हुए कहा कि जिलाधिकारी द्वारा आये शिकायत को गम्भीरता से लिया गया। अधिकांश शिकायतों को मौके पर ही निस्तारित किये गये। उन्होने कहा कि सरनौल मोटर मार्ग के डामरीकरण हेतु चार करोड़ की टेण्डर पर लेट लतीफे होने से इसे गम्भीरता से लिया जायेगा। जल्द से जल्द अच्छी सड़क ग्रामवासियों को दी जायेगी। उन्होने कहा कि सरकार को मंशा है कि आयोजित बहुउद्देशीय शिविर में अधिक से अधिक जनता के समस्या का निस्तारण किया जाय।
 वहीं शिविर में स्वास्थय विभाग की ओर से 101 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण कर दवाई दी गई। जबकि 5 लोगों के विकलांग प्रमाण पत्र जारी की गई। आयुर्वेद चिकित्सा द्वारा 78 मरीज को दवा वितरण किया। पंचायती राज विभाग ने 48 परिवार की रजिस्टर की नकल एवं जन्म के एक व मृत्यु के एक प्रमाण पत्र जारी की गई। कृषि विभान ने 34 किसानों को लाभान्वित कियें। वहीं पशुपालन विभाग की ओर से 13 लोग एवं राजस्व विभाग ने आय, ओबीसी एवं स्थाई प्रमाण पत्र के 09 प्रमाण पत्र जारी कियें। विधायक, जिला पंचायत अध्यक्ष एवं जिलाधिकारी सहित अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने शिविर में स्थापित स्टाल का निरीक्षण किया।
शिविर में मुख्य विकास अधिकारी विनीत कुमार, प्रमुख रचना बहुगुणा, जयेष्ठ प्रमुख प्रकाश असवाल, उपजिलाधिकारी बड़कोट पूरण सिह राणा, रणवीर सिंह राणा, मुख्य षिक्षा अधिकारी आरसी आर्य, प्रधान सरनौल कपूर चंद,जयेन्द्र सिंह राणा, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 विनोद नौटियाल, जगमोहन सिंह राणा, भरत सिह राणा, स0अ0 डीडी रतूडी, सहायक समाज कल्याण अधिकारी गोपाल सिंह राणा सहित सैकड़ो ग्रामीण मौजूद थे।