गंगोत्री विधायक गोपाल रावत ने सीमांत गांव बगोरी व हर्षिल का किया भ्रमण

  • उत्त्तरकाशी

सोमवार को गंगोत्री विधायक गोपाल सिंह रावत जी ने सीमांत गांव बगोरी व हर्षिल का भ्रमण कर ग्रामीणों से मुलाकात कर उनकी समस्याएं सुनी। भ्रमण के दौरान गंगोत्री विधायक गोपाल सिंह रावत जी ने हर्षिल में बीएडीपी के अंतर्गत बन रहे तालाब व स्टोन पार्क का भूमि पूजन कर शिलान्यास किया।
रविवार देर शाम गंगोत्री विधायक गोपाल सिंह रावत  सीमांत गांव बगोरी पहुंचे थे। गांव में पहुंचने पर ग्रामीणों ने विधायक गोपाल सिंह रावत जी का भव्य स्वागत किया। गांव में रात्रि विश्राम के दौरान विधायक गोपाल सिंह रावत जी ने बगोरी के ग्रामीणों की समस्याएं सुनी बकरी भेड़ पालन व कताई बुनाई के कार्य से जुड़े बगोरी के ग्रामीणों ने विधायक जी को अपनी विभिन्न समस्याओं से अवगत कराया।

विधायक गोपाल सिंह रावत जी ने कहा कि कताई बुनाई में आधुनिक मशीनों का प्रयोग किया जाना जरूरी है जिससे उच्च गुणवत्ता बने और मेहनत की सही कीमत भी मिल सके। विधायक गोपाल सिंह रावत जी ने कहा कि सरकार ने कताई बुनाई से जुड़े परिवारों को बेहतर संसाधन उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से ग्रोथ सेंटर की स्थापना की है और आगे भी अन्य योजनाओं के जरिए उन उत्पादों को बेहतर बाजार, तकनीकि देने का काम किया जा रहा है।
वहीं, सोमवार सुबह विधायक गोपाल सिंह रावत जी ने बगोरी गांव का भ्रमण कर परिवारों से मुलाकात कर उनका हाल चाल जाना।
इसके उपरांत विधायक गोपाल सिंह रावत जी हर्षिल पहुंचे। यहां बीएडीपी के तहत बन 32 लाख रूपये की लागत से तालाब व स्टोन पार्क का विधायक गोपाल सिंह रावत जी ने भूमि पूजन कर शिलान्यास किया।
इस मौके पर विधायक गोपाल सिंह रावत जी ने कहा कि हर्षिल एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है लेकिन इनर लाइन की बंदिशों के चलते पर्यटकों की आवाजाही यहां सुगम नहीं थी ऐसे में हमारी सरकार ने हर्षिल को इनर लाइन से हटाकर यहां पर्यटकों की आवाजाही को आसान किया है, साथ ही हर्षिल क्षेत्र सेब उत्पादन के लिए विश्व विख्यात है और यहां सेब को अंतरराष्ट्रीय पहचान देने के लिए बीते तीन वर्षों से एप्पल फेस्टिवल का आयोजन किया जा रहा है। विधायक गोपाल सिंह रावत जी ने कहा कि इस वर्ष भी एप्पल फेस्टिवल से पहले सेब की बागवानी करने वाले बागवानों के लिए फरवरी मार्च महीने में फ्लवारिंग से पूर्व सेब उत्पादन के विशेषज्ञों का सम्मेलन करवाने की योजना थी लेकिन कोविड 19 महामारी के कारण यह आयोजन अगले वर्ष के लिए टालना पड़ा। उन्होंने कहा कि इस सेब से जुड़े दो आयोजनों का मकसद पहले किसानों को तकनीकि ज्ञान देना फिर बेहतर ंढंग से उत्पादित सेबों को देश दुनिया की नजरों में लाना है।
विधायक गोपाल सिंह रावत जी ने कहा कि हर्षिल में फिलहाल वैली ब्रिज से आवाजाही होती थी अब वन स्वीकृति मिलने के बाद यहां पुल का निर्माण हो सकेगा और इसके लिए निविदा संबंधी प्रक्रिया चल रही है। विधायक गोपाल सिंह रावत जी ने कहा कि हर्षिल एक प्रमुख पर्यटन केंद्र है और इसमें तमाम संभावनाएं है और हम लगातार यहां इन संभावनाओं के बेहतर उपयोग के लिए काम कर रहे हैं।
इस मौके पर सेब उत्पादक बागवानों ने विधायक गोपाल ंिसह रावत जी को अपनी समस्याओं से भी अवगत कराया। सेब उत्पादकों ने बताया कि जंगली सुअर, लंगूर, भालू समेत अन्य जंगली जानवर सेब की फसल को काफी नुकसान पहुंचा रहे है जिससे सेब बागवान बुरी तरह प्रभावित हो रहे हैं। विधायक गोपाल सिंह रावत जी ने सेब बागवानों की इस समस्या से निजात के लिए विधायक निधि से सेब उत्पादक आठ गांवों में प्रत्येक गांव में पांच पांच केनन गन देने की घोषणा की जिससे जंगली जानवरों को फलों के नुकसान से हटाया जा सके।
इसके उपरांत विधायक गोपाल रावत जी ने हर्षिल में नेहरू युवा केंद्र के साथ मिलकर स्वच्छता अभियान चलाकर कूडा़ एकत्र किया.
इस मौके पर नमामि गंगे के प्रदेश संयोजक हरीश सेमवाल, ग्राम प्रधान बगोरी सरिता रावत भाजपा उपाध्यक्ष महावीर नेगी, डीपीसी अरविंद नेगी, कोषाध्यक्ष गोविंद रौतेला, भाजयुमो के अनवीर रौतेला, माधवेंद्र रावत, बगोरी के पूर्व प्रधान भगवान सिंह राणा, पूर्व प्रधान उर्मिला देवी, क्षेत्र पंचायत सदस्य अमित सेमवाल, रावल सुंधाशु सेमवाल, रावल सचेंद्र सेमवाल समेत अन्य मौजूद रहे।