“आपदा में खाकी” : पुलिस दारोगा ने चलाई कलम, सोशल मीडिया पर लोगों ने किया सैल्यूट

मिलिए टिहरी गढ़वाल में तैनात उत्तराखंड पुलिस के SI सुभाष_भट्ट से, जिन्होंने चमोली में आयी प्राकृतिक आपदा में खाकी के सेवाभाव को अपनी कविता “आपदा में खाकी” के माध्यम से दर्शाया है।

जिसको सोशल मीडिया पर खूब सराहा जा रहा है।

“आपदा में खाकी”

मन विचलित हुआ हम सबका
जब दिखा प्रकृति का यह मंजर
सिहरन सी उठी सीने में
मानो चुभाया हो किसी ने कोई खंजर

चमोली की बाढ़ में कुछ बह गए कुछ दब गऐ
कुछ सपने साकार होने रह गए
कुछ ख्वाहिशों को आकार देना रह गया
किसी का इन्तजार जीवन का इन्तजार बन गया
मगर एक बार फिर खाकी तूने सबका दिल जीत लिया

दिखाया जज्बा तुमने जो सुरक्षा का
भाव जो तुमने सेवा का
निभाया धर्म जो तुमने मित्रता का
मन प्रफुल्लित हुआ हम सबका
दिया जब पैगाम तुमने मानवता का

खाकी तुझ पर नाज है
तू हमारा अभिमान है
तू हमारा स्वाभिमान है

त्याग तपस्या बलिदान सिखाया
दृढ़ता साहस हौसला बढ़वाया
लेकर प्राण हथेली पर लोगों को बचाया
हर दिल में एक विश्वास जगाया
गैरों को भी अपना बनाया
एक नया पाठ पढाया
खुद को खोया
दूसरे को पाया
यही तेरी शान है यही तेरा मान है

तू हमारा अभिमान है
तू हमारा स्वाभिमान है

कभी देती अंहिसा का सन्देश
कभी धरती देवदूतों का भेष
कभी सुलझाती अनसुलझे केस
अनमोल-विशेष हैं तेरे काम
दुनिया में फैलेगा तेरा नाम तेरी पहचान
तू हमारा अभिमान है
तू हमारा स्वाभिमान है

प्राकृतिक आपदा हो
या काल हो कोरोना
चाहे अपनों को ही पडे समझाना
तू सदा आगे बढते जाना
खाकी! तू हमारा अभिमान है
तू हमारा स्वाभिमान है